Thursday, February 29, 2024
HomeLatest Newsपृथ्वी तथा मानव अंतर्संबंधित हैं तथा एक दूसरे को प्रभावित करते हैं

पृथ्वी तथा मानव अंतर्संबंधित हैं तथा एक दूसरे को प्रभावित करते हैं

विश्वविद्यालय भूगोलविद्द एकेडमिक संघ द्वारा आयोजित ऑनलाइन व्याख्यान-1 के समापन सत्र में आज का व्याख्यान डॉ अरुण कुमार मौर्य असिस्टेंट प्रोफेसर, भूगोल, सीएसएन कॉलेज, हरदोई के द्वारा पृथ्वी तथा मानव के बीच अंतर्संबंध एवं मृदा निर्माण पर अपना व्याख्यान दिया। डॉ मौर्य ने बताया कि मानव के बिना पृथ्वी का अस्तित्व बना रह सकता है। लेकिन पृथ्वी के बिना मानव का अस्तित्व नहीं है। आज के व्याख्यान के अवसर पर मुख्य अतिथि प्रो जेवी वैशमपायन, कुलपति, बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झाँसी रहे। उन्होंने कहा कि भूगोल सभी विज्ञानो की जाननी है। विशिष्ट अतिथि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष भूगोल प्रो एआर सिद्दीक़ी रहे। जिन्होंने मानव भूगोल के विभिन्न जटिल व महत्वपूर्ण सिद्धान्तों को बेहद कुशलतापर्वक सहजता के साथ समझाया। व्याख्यान की अध्यक्षता डा जीएल श्रीवास्तव, संचालन डा संगीता सिरोही, अतिथियों का स्वागत डा शशि बाला सिंह, डा अमित सचान व डा स्वर्णिमा सिंह तथा धन्यवाद ज्ञापन डा अनिल साहू, सचिव कूग़ा के द्वारा किया गया। व्याख्यानमाला के होस्ट डा नीरज यादव रहे। उन्होंने सम्पूर्ण व्याख्यानमाला का सार प्रस्तुत किया। व्याख्यानमाला में डॉ० अंजना श्रीवास्तव, डा० अनिता निगम एवं कूगा कार्यकारिणी के सभी सदस्यों तथा विभिन्न महाविद्यालयों के प्रवक्ताओं एवं छात्र-छात्राओं ने सक्रिय प्रतिभाग किया।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular