Friday, February 23, 2024
HomeLatest Newsप्रशिक्षण में बहाया पसीना आपदा के समय जीवन बचाता है

प्रशिक्षण में बहाया पसीना आपदा के समय जीवन बचाता है

जिला आपदा प्रबंध प्राधिकरण द्वारा रुमा स्थित एम के यू लि में अग्नि सुरक्षा विषय पर मॉकड्रिल आपदा प्रबंधन से मुख्य प्रशिक्षक लखन शुक्ला के नेतृत्व में की गई जिसमे केमिकल फायर वास्तविक आग का वास्तविक फायर फाइटिंग किया गया। जिसमे कम्पनी की फायर सेफ्टी टीम रेस्कू टीम प्राथमिक उपचार टीम व साइड सेफ्टी टीम ने अपना प्रदर्शन किया लखन शुक्ल ने बताया कि सुरक्षा उपकरणों को लगा लेना ही आवश्य्क नहीं है। अपितु उसकी जानकारी होना सुरक्षा उपकरणों का समय समय पर उपयोग मॉक ड्रिल के माध्यम से करते रहना चाहिए। जिससे उपकरणों की क्रियाशीलता पता चलती है लखन शुक्ला ने बताया किसी घटना के तीन कारण लापरवाही अज्ञानता जल्दबाजी है। शुक्ला ने बताया आग ऑक्सीजन ईंधन तथा उचित ताप के मिलने पर ही लगती है। इन तीन तत्व में किसी एक को कम या हटा दे तो आग पर काबू पाया जा सकता है साफ सफाई का सुरक्षा से गहरा सम्बन्ध है जितनी बेहतर सफाई होगी हम उतना सुरक्षित होंगे आग को बुझाने की दृस्टि से 5 भागो में बाटा गया है ए- लकड़ी कोयला कागज यानि ठोस पदार्थो की आग बी- तरल पदार्थो की आग सी -गैस की आग डी-,धातुओ की आग ई- बिजली की आग भूकम्प के बारे में बताते हुए शुक्ल ने बताया कि सुरक्षा उपकरणों का समय समय पर उपयोग मॉक ड्रिल के माध्यम से करते रहना चाहिए। जिससे उपकरणों की क्रियाशीलता पता चलती है और विषम परिस्थिति में उसका बेहतर उपयोग सम्भव होता है प्रशिक्षण के समय बहाया गया पसीना आपदा के समय जीवन बचता हैं।इस अवसर पर डारेक्टर सुमित खंडेलवाल शोभित खंडेलवाल अशोक पांडेय विनोद मनीष भदौरिया आदि उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular