Monday, May 20, 2024
HomeBreaking Newsरोडवेज कंडक्टर ने यात्रियों से मिले किराए को IPL के सट्टे में...

रोडवेज कंडक्टर ने यात्रियों से मिले किराए को IPL के सट्टे में लगाया, 10 दिन नहीं की ड्यूटी, विभाग को पता चला तो जमा करा दिए 65 हजार

यूपी में एक रोडवेज कंडक्टर ने यात्रियों से किराए में मिले रुपयों को आईपीएल के सट्टे में लगा दिया। उसके बाद वो ड्यूटी से 10 दिन तक गायब रहा। जब विभाग को इसकी जानकारी हुई तो उसने 65 हजार रुपये खजाने में जमा करा दिए।

उत्तर प्रदेश में एक रोडवेज बस कंडक्टर ने सवारियों से मिले किराए के पैसों का आईपीएल में सट्टा लगा दिया। जब विभाग को इसकी जानकारी हुई तो उसने चुपके खजाने में रुपये जमा करा दिए। हालांकि इस मामले में विभागीय जांच शुरू कर दी गई है।

जानकारी के मुताबिक, लखनऊ के कैसरबाग डिपो में पंकज तिवारी कंडक्टर के तौर पर काम करता है, जो रोडवेज बस के साथ दिल्ली गया था। वहां से देहरादून जाकर 8 अप्रैल को लखनऊ लौट आया था। इस दौरान उसे लंबी दूरी के यात्रियों को टिकट के करीब 65 हजार रुपया कैश बैग में मिले थे, जिन्हें 9-10 अप्रैल को डिपों में जमा करना था, लेकिन कंडक्टर ने ऐसा नहीं किया और पैसे लेकर 10 दिनों तक गायब रहा।

यात्रियों के किराए को आईपीएल के सट्टे में लगाया
पता चला है कि इस रकम को उसने आईपीएल के सट्टे में लगा दिया। शुरुआती जांच में कैसरबाग बस स्टेशन इंचार्ज एसके गुप्ता की भी मिलीभगत सामने आई है। ये एसके गुप्ता ही जिम्मेदारी है कि कैश बैग को बैंक में जमा कराएं, लेकिन उन्होंने कई दिनों तक मामला दबाए रखा। जब मामला सामने आया तो उन्होंने चुपके से कैश बैग को जमा करवा दिया।

विभाग ने शुरू की जांच
आरोप है कि कंडक्टर पंकज तिवारी कैश बैग ज्यादातर जमा नहीं करता है या फिर देर से जमा करता है। हालांकि इस पूरे मामले में कंडक्टर से जबाव तलब किया गया है। फिलहाल उसे ड्यूटी से हटा दिया गया है और इस मामले में जांच शुरू कर दी गई है। कैसरबाग डिपो के एआरएम अरविंद कुमार के मुताबिक, इस पूरे मामले पर कंडक्टर से पूछताछ की गई है। फिलहाल कंडक्टर ड्यूटी से हटा दिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है जो भी इसमें जिम्मेदार लोग शामिल होंगे सभी पर कार्रवाई की जाएगी।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular