Saturday, March 2, 2024
HomeLatest Newsवास्तु की महिमा अपरंपार गृहस्थस्य क्रियास्सर्वा न सिद्धयन्ति गृहं विना

वास्तु की महिमा अपरंपार गृहस्थस्य क्रियास्सर्वा न सिद्धयन्ति गृहं विना

एसोसिएशन ऑफ केमिस्ट्री टीचर्स के तत्वावधान में वास्तु शास्त्र पर वास्तुशास्त्री प्रेम पंजवानी ने जानकारी दी कि कई बार घर में बिना वजह के तनाव व लड़ाई-झगड़ा बना रहता है। आपसी रिश्तों में कड़वाहट और उदासीनता आ जाती। अगर आप अपने जीवन में खुशियां चाहते हैं तो ये उपाय अवश्य अपनए। घर में सप्ताह में एक बार गूगल का धुआं करना शुभ होता है। गेहूं में नागकेशर के 2 दाने तथा तुलसी की 11 पत्तियां डालकर पिसाया जाना शुभ है।पहली रोटी गौ माता के लिए निकाले। मकान में 3 दरवाजे एक ही रेखा में न हो। सूखे फूल घर में नहीं रखे।संत-महात्माओं के चित्र आशीर्वाद देते हुए बैठक में लगाएं। घर में टूटी-फूटी, कबाड़, अनावश्यक वस्तुओं को नहीं रखें। दक्षिण-पूर्व दिशा के कोने में हरियाली से परिपूर्ण चित्र लगाएं। घर में टपकने वाले नल नहीं होना चाहिए। घर में गोल किनारों के फर्नीचर ही शुभ हैं। संचालन एसोसिएट प्रोफेसर क्राइस्ट चर्च डॉ मीत कमल द्वारा,धन्यवाद ज्ञापन -प्रोग्राम चैयरमेन डॉ डीके अवस्थी द्वारा स्वागत एसीटी नॉर्थजोन उपाध्यक्ष डॉ श्रद्धा सिन्हा द्वारा तथा आयोजके सचिव डॉ रंजीत रहे संगोष्ठी में पूरे राष्ट्र से 200 लोगों ने भाग लिया।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular