Tuesday, July 23, 2024
HomeLatest Newsशर्मनाक :- नेशनल हेल्थ प्रोफाइल के अनुसार 11000 से अधिक लोगों के...

शर्मनाक :- नेशनल हेल्थ प्रोफाइल के अनुसार 11000 से अधिक लोगों के इलाज के लिए भारत में सिर्फ एक डॉक्टर उपलब्ध है

कानपुर 13 जुलाई।अस्पतालों व डॉक्टरों की कमी,महंगी दवाई,व्यवस्था का सड़ चुका तंत्र,डॉक्टरी शिक्षा में अनियमितता,दूरदर्शी सोच की कमी जैसी कई बीमारियों से ग्रस्त स्वास्थ्य तंत्र द्वारा भारत कोरोना से जंग कैसे जीतेगा,उपरोक्त बात सोसाइटी योग ज्योति इंडिया के तत्वाधान में संविधान रक्षक दल के सहयोग से कोरोना मिटाओ नशा हटाओ पेड़ लगाओ अभियान के तहत आयोजित वेबीनार शीर्षक “लड़खड़ाती भारतीय स्वास्थ्य सुविधाएं और कोरोना जंग” में अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्त अभियान के प्रमुख योग गुरु ज्योति बाबा ने कही,ज्योति बाबा ने आगे कहा कि देश की उन्नति और तरक्की की बुनियाद उसके स्वास्थ्य तंत्र की मजबूती से आती है लेकिन वह देश कोरोना जैसी महामारी से कैसे निपटेगा,जिसका स्वास्थ्य तंत्र खुद कैंसर ग्रस्त हो,एक तरफ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जी कहते हैं कि इलाज के अभाव में नहीं होगी किसी गरीब की मौत!लेकिन रोज के अखबारों में इलाज के अभाव में दम तोड़ती जिंदगियों की खबरें सत्य का आइना दिखा रही हैं ज्योति बाबा ने कहा कि साफ हवा,साफ पानी और हरियाली बढ़ाने व पोषण पर ध्यान देते तो शायद आज कोरोनावायरस जैसी महामारी से हम आसानी से निपट सकते थे।संविधान रक्षक दल के राष्ट्रीय संयोजक राजेंद्र कश्यप ने कहा की बैसाखी पर चलने वाले स्वास्थ्य तंत्र से देश को आयुष्मान भारत की राह पर कैसे ले जा पाएंगे,इससे अच्छा स्वास्थ्य सुरक्षा तंत्र तो गुलामी के समय पर था जब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, जिला अस्पतालों में मुस्तैदी से उपस्थित डॉक्टरों की पर्याप्त संख्या होती थी,लेकिन आजादी के बाद सिर्फ भ्रष्टाचारी तंत्र को बढ़ावा देकर गरीब,मजदूर और किसान को स्वास्थ्य सुविधाओं से गुलाम बनाने की रणनीति के तहत वंचित कर दिया गया। वरिष्ठ समाज चिंतक राकेश चौरसिया ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस कहर ढा रहा है उसमे हमारे भ्रष्ट सुरक्षा तंत्र का बड़ा योगदान है,विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना है कि हर व्यक्ति तक सहज इलाज पहुंचाने के लिए देश में कम से कम पांच लाख डॉक्टर्स और 35 लाख नर्स व पैरामेडिकल स्टाफ की तत्काल जरूरत है। स्वामी गीता ने कहा कि देश में महंगे इलाज के चक्कर में हर साल लाखों परिवार गरीबी रेखा से नीचे चले जाते हैं स्वास्थ्य बीमा की सोच हकीकत का जामा कब पहनेगी यह भविष्य के गर्त में है जहां महिलाएं अस्पताल के गेट पर प्रसव कर देती हैं वहां पर कैसे कोरोना से जंग जीतेंगे। वेबीनार का संचालन अमित गुप्ता डायरेक्टर 3 एम एंटरटेनमेंट व धन्यवाद फैमिली हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ अजीत सिंह ने दिया। अन्य प्रमुख समाज चिंतक दीप कुमार मिश्रा,सी ए,आलोक मेहरोत्रा,डॉ मनीष बिश्नोई,श्रवण कुमार गुप्ता,महंत राम अवतार दास इत्यादि थे।

RELATED ARTICLES

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular