Wednesday, October 20, 2021
Homeप्रमुख खबरें12 घंटे की पूछताछ के बाद मंत्री का बेटा गिरफ्तार, न्यायिक हिरासत...

12 घंटे की पूछताछ के बाद मंत्री का बेटा गिरफ्तार, न्यायिक हिरासत में भेजा गया

तिकुनिया थाने में आशीष मिश्रा उर्फ मोनू तथा 15-20 अज्ञात लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 147 (उपद्रव), 148 (घातक अस्त्र का प्रयोग), 149 (भीड़ हिंसा), 279 (सार्वजनिक स्थल से वाहन से मानव जीवन के लिए संकट पैदा करना), 338 (दूसरों के जीवन के लिए संकट पैदा करना), 304 ए (किसी की असावधानी से किसी की मौत होना), 302 (हत्या) और 120 बी (साजिश) के तहत मामला दर्ज किया गया है

लखीमपुर खीरी. उत्तर प्रदेश पुलिस के एक विशेष जांच दल (एसआईटी) ने तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा के सिलसिले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को शनिवार को करीब 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया। मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी का नेतृत्व कर रहे पुलिस उप महानिरीक्षक (मुख्यालय) उपेंद्र अग्रवाल ने शनिवार रात लगभग 11 बजे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी की जानकारी दी। अग्रवाल ने बताया, “आशीष मिश्रा ने पुलिस के प्रश्नों का सही उत्तर नहीं दिया और जांच में सहयोग नहीं किया। वह सही बातें नहीं बताना चाह रहे हैं, इसलिए उन्हें गिरफ्तार किया गया है और उन्‍हें अदालत में पेश किया जाएगा।”

‘मंत्री पुत्र’ से पूछे गए यह सवाल?

आशीष मिश्रा से पूछा गया कि घटना के समय वो कहां था ?
क्या थार गाड़ी आपकी थी और क्या घटना के वक्त आप थार में मौजूद थे?
क्या आपको जानकारी है कि थार गाड़ी कौन चला रहा था ?
थार में गोलियां कहां से आईं, क्या थार में हथियार होने की जानकारी थी ?
आपके समर्थक, आपकी गाड़ी लेकर वहां क्यों गए थे ?
घटना के बारे में कब, कैसे और किसने बताया ?
समन के बाद आप कहां थे, किससे मिले ?

गिरफ्तारी के बाद क्राइम ब्रांच के दफ्तर में ही आशीष मिश्रा का मेडिकल हुआ और फिर रात 12 बजकर 30 मिनट पर आशीष को जज के सामने पेश किया। करीब बीस मिनट की संक्षिप्त सुनवाई के बाद जज ने आशीष को सोमवार तक के लिए जेल भेज दिया। शनिवार की रात आशीष की जेल में गुजर गई , अब रविवार की रात भी जेल में ही गुजरने वाली है क्योंकि मामले की अगली सुनवाई अब सोमवार को दोपहर 1 बजे होगी। जहां पुलिस आशीष की कस्टडी की मांग करेगी तो वहीं बचाव पक्ष आशीष की जमानत की अपील करेगा।

आशीष के वकील ने बताया कि पहले आरोपी को सुना जाए, उसके बाद कस्टडी में भेजने का फैसला किया जाए … कल आशीष से करीब 12 घंटे तक पूछताछ हुई, जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।
आधी रात को आशीष मिश्रा को लखीमपुर की जिला मजिस्ट्रेट दीक्षा पांडेय के घर पर पेश किया गया। पुलिस ने जज के सामने आशीष को तीन दिन की कस्टडी की मांग की लेकिन मजिस्ट्रेट ने पुलिस की मांग खारिज कर दी और आशीष मिश्रा को सोमवार तक जेल भेजने का फैसला सुनाया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular